भारत सरकार द्वारा TikTok समेत 59 chinese application ban कर दिया गया

Updated: Sep 19, 2020

अब से भारतीय समाचार पत्र, वेबसाइट चीन में उपलब्ध नहीं होंगे

15 जून के गतिरोध के बाद चीन और भारत के बीच सीमा पर जारी तनाव, भारतीय समाचार पत्र और वेबसाइट चीन में सुलभ नहीं हैं। हालांकि चीनी समाचार पत्र और वेबसाइट भारत में सुलभ हैं, चीन में लोग केवल वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) सर्वर का इस्तमाल कर के भारतीय मीडिया वेबसाइटों तक पहुंच सकते हैं और उन्हें इस्तमाल करसकते हैं।

TikTok समेत 59 chinese application ban


भारतीय टीवी चैनलों को भी अब IPTV के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है। और ExpressVPN पिछले दो दिनों से iphone के साथ-साथ desktop पर भी कम्युनिस्ट राज्य में काम नहीं कर रहा है।


वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) एक शक्तिशाली उपकरण है, जो सार्वजनिक इंटरनेट कनेक्शन से निजी नेटवर्क बनाकर उपयोगकर्ताओं को ऑनलाइन गोपनीयता और गुमनामी देता है। VPN उपभोगता के Internet protocol address (IP address ) पर एक मास्क या cover लगाडेटा है जिसके कारण उपभोगता जो कुछ भी इंटरनेट पर करता है उसका परिचय छिपा रहता है।



लेकिन चीन ने ऐसी तकनीकी रूप से उन्नत फ़ायरवॉल बनाई है कि वह वीपीएन को भी अवरुद्ध कर देती है।पूर्वी लद्दाख के गैलवान घाटी क्षेत्र में 15 जून को हुए हिंसक गतिरोध के बाद भारत और चीन के बीच जारी तनाव के बीच हालिया कार्रवाई सामने आई है जिसमें दोनों पक्षों को हताहत का सामना करना पड़ा।


भारतीय मीडिया साइटों पर प्रतिबंध लगाने की चीनी कार्रवाई भारत सरकार द्वारा टीक टोक, यूसी ब्राउज़र, और अन्य चीनी ऐप सहित देश के संप्रभुता और अखंडता और रक्षा के लिए "अन्य पूर्वाग्रहिक